कैफ़ी आज़मी - या दिल की सुनो दुनियावालों, या मुझको अभी चुप रहने दो (हेमन्त)

गीतकार : कैफ़ी आज़मीराग :
चित्रपट : अनुपमा (१९६६)संगीतकार : हेमन्त दा
भाव : रोषगायन : हेमन्त दा
या दिल की सुनो दुनियावालों,
या मुझको अभी चुप रहने दो,
मैं ग़म को खुशी कैसे कह दूँ,
जो कहते हैं उनको कहने दो॥स्थायी॥

या दिल की सुनो दुनियावालों,
या मुझको अभी चुप रहने दो,
मैं ग़म को खुशी कैसे कह दूँ,
जो कहते हैं उनको कहने दो।

या दिल की सुनो दुनियावालों।

ये फूल चमन में कैसा खिला,
ये फूल चमन में कैसा खिला,
माली की नजर में प्यार नहीं,
हँसते हुये क्या-क्या देख लिया,
अब बहते हैं आँसू बहने दो॥१॥

या दिल की सुनो दुनियावालों।

एक ख्वाब खुशी का देखा नहीं,
एक ख्वाब खुशी का देखा नहीं,
देखा जो कभी तो भूल गये,
मांगा हुआ तुम कुछ दे न सके,
जो तुमने दिया वो सहने दो॥२॥

या दिल की सुनो दुनियावालों।

क्या दर्द किसी का लेगा कोई,
क्या दर्द किसी का लेगा कोई,
इतना तो किसी में दर्द नहीं,
बहते हुये आँसू और बहें,
अब ऐसी तसल्ली रहने दो॥३॥

या दिल की सुनो दुनियावालों,
या मुझको अभी चुप रहने दो,
मैं ग़म को खुशी कैसे कह दूँ,
जो कहते हैं उनको कहने दो।

या दिल की सुनो दुनियावालों।

राजा मेहदी अली खान - वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो (रफ़ी, खान मसताना)

गीतकार : राजा मेहदी अली खानराग :
चित्रपट : शहीद (१९४८)संगीतकार : गुलाम हैदर
भाव : बलिदानगायन : मोहम्मद रफ़ी, खान मसताना
वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो,
वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो,
पुकारते हैं ये जमीन ओ आसमां शहीद हो,
पुकारते हैं ये जमीन ओ आसमां शहीद हो।

वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो।

शहीद तेरी मौत ही तेरे वतन की जिन्दगी,
तेरे लहू से जाग उठेगी इस चमन की जिन्दगी,
खिलेंगे फूल उस जगह पे तू जहाँ शहीद हो,
खिलेंगे फूल उस जगह पे तू जहाँ शहीद हो।

वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो।

गुलाम उठ वतन के दुश्मनों से इंतकाम ले,
इन अपने दोंनो बाजुओं से खंजरों का काम ले,
चमन के वासते चमन के बागबां शहीद हो,
चमन के वासते चमन के बागबां शहीद हो।

वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो।

पहाड़ तक भी कांपने लगे तेरे जुनून से,
तू आसमां पे इंकलाब लिख दे अपने खून से, खून से,
जमीन ही तेरा वतन है आसमां शहीद हो,
जमीन ही तेरा वतन है आसमां शहीद हो।

वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो,
वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो।

वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो,
वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो,
ओऽ पुकारते हैं ये जमीन ओ आसमां शहीद हो,
पुकारते हैं ये जमीन ओ आसमां शहीद हो।

वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो।

वतन की लाज जिसको थी अजीज अपनी जान से,
वो नौजवान जा रहा है आज कितनी शान से,
इस एक जवां की खाक पर हर एक जवां शहीद हो,
वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो।

है कौन खुशनसीब माँ, कि जिसका ये चिराग है, चिराग है,
वो खुशनसीब है कहाँ ये जिसके सर का ताज है,
अमर वो देश क्यों ना हो कि तू जहाँ शहीद हो,
वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो।

शहीद तेरी मौत ही तेरे वतन की जिन्दगी,

तेरे लहू से जाग उठेगी इस चमन की जिन्दगी, जिन्दगी,
खिलेंगे फूल उस जगह पे तू जहाँ शहीद हो,
वतन की राह में वतन के नौजवां शहीद हो।

फ़ारूख़ कैसर - वो जब याद आए, बहुत याद आए (रफ़ी, लता)

गीतकार : फ़ारूख़ कैसरराग : कल्याण
चित्रपट : पारसमणी (१९६३)संगीतकार : लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
भाव : विरह गायन : मोहम्मद रफ़ी, लता मङ्केश्कर
वो जब याद आये, बहुत याद आये।
गम-ए-ज़िन्दगी के अंधेरे में हमने,
चिराग-ए-मुहब्बत के जलाये बुझाये॥स्थायी॥

वो जब याद आये, बहुत याद आये।

आहटे जाग उठीं, रास्ते हँस दिये,
थाम कर दिल उठे, हम किसी के लिये।
कई बार ऐसा भी धोखा हुआ है,
चले आ रहे हैं वो नजरें झुकाये॥१॥

वो जब याद आये, बहुत याद आये।

दिल सुलगने लगा, अश्क बहने लगे,
जाने क्या-क्या हमें लोग कहने लगे।
मगर रोते-रोते हँसी आ गयी है,
ख़्यालों में आके वो जब मुस्कुराये॥२॥

वो जब याद आये, बहुत याद आये।

वो जुदा क्या हुये, जिन्दगी खो गयी,
शम्मा जलती रही, रोशनी खो गयी।
बहुत कोशिशें कीं मगर दिल ना बहला,
कई साज छेड़े, कई गीत गाये।

वो जब याद आये, बहुत याद आये।
गम-ए-ज़िन्दगी के अंधेरे में हमने,
चिराग-ए-मुहब्बत के जलाये बुझाये।

वो जब याद आये, बहुत याद आये।