हरिओम शरण - दाता एक राम भिखारी सारी दुनिया, राम एक देवता पुजारी सारी दुनिया (हरिओम शरण)

गीतकार : हरिओम शरणराग :
गीतसंग्रह : दाता एक राम संगीतकार : हरिओम शरण
भाव : भजनगायन : हरिओम शरण
दाता एक राम दाता एक राम,
दाता एक राम।

दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया,
पुजारी सारी दुनिया॥स्थायी॥

दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया,
दाता एक राम।

द्वारे पे उसके जाके कोई भी पुकारता,
द्वारे पे उसके जाके कोई भी पुकारता,
परम कृपा दे अपनी भव से उबारता,
परम कृपा दे अपनी भव से उबारता।

ऐसी दीनानाथ पे,
ऐसी दीनानाथ पे बलिहारी सारी दुनिया,
बलिहारी सारी दुनिया॥१॥

दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया,
दाता एक राम।

दो दिन का जीवन, प्राणी कर ले विचार तू,
कर ले विचार तू।
प्यारे प्रभु को अपने मन में निहार तू,
प्यारे प्रभु को अपने मन में निहार तू,
मन में निहार तू।

बिना हरि नाम के,
बिना हरि नाम के, दुखियारी सारी दुनिया,
दुखियारी सारी दुनिया॥२॥

दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया,
दाता एक राम।

नाम का प्रकाश जब अंदर जगायेगा,
नाम का प्रकाश जब अंदर जगायेगा,
प्यारे श्रीराम का तू दर्शन पायेगा,
प्यारे श्रीराम का तू दर्शन पायेगा।

ज्योति से जिसकी है,
ज्योति से जिसकी है, उजियारी सारी दुनिया,
उजियारी सारी दुनिया॥३॥

दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया,
दाता एक राम, दाता एक राम,
दाता एक राम।




मेरे अन्य पसंदीदा गीत - भारतीय संगीत @ YouTube


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें