रविन्द्र जैन - आज से पहले आज से ज्यादा खुशी आज तक नहीं मिली (येसुदास)


गीतकार : रविन्द्र जैनराग :
चित्रपट : चित्चोर (१९७६)संगीतकार : रविन्द्र जैन
भाव : परमानंदगायन : येसुदास

आज से पहले, आज से ज्यादा,
आज से पहले, आज से ज्यादा,
खुशी आज तक नहीं मिली।

इतनी सुहानी, ऐसी मीठी,
इतनी सुहानी, ऐसी मीठी,
घड़ी आज तक नहीं मिली॥स्थायी॥

आज से पहले।

इसको संयोग कहें या किस्मत का लेखा,
हम जो अचानक मिले हैं।

हेऽ इसको संयोग कहें या किस्मत का लेखा,
हम जो अचानक मिले हैं।

मनचाहे साथी पाके हम सबके चेहरे,
देखो तो कैसे खिले हैं।

होऽ तकदीरों को जोड़ दे ऐसी,
इन तकदीरों को जोड़ दे ऐसी,
कड़ी आज तक नहीं मिली॥१॥

आज से पहले।

सपना हो जाए वो पूरा, जो हमने देखा,
ये मेरे दिल की दुआ है।

हेऽ सपना हो जाए वो पूरा, जो हमने देखा,
ये मेरे दिल की दुआ है।

ये पल जो बीत रहे हैं, इनके नशे में,
दिल मेरा गाने लगा है।

होऽ इसी खुशी को ढ़ूँढ़ रहे थे,
हम इसी खुशी को ढ़ूँढ़ रहे थे,
यही आज तक नहीं मिली॥२॥


आज से पहले, आज से ज्यादा,
खुशी आज तक नहीं मिली।


आज से पहले।

०ऽऽऽ




मेरे अन्य पसंदीदा गीत - भारतीय संगीत @ YouTube


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें